Function in C++ in Hindi

सरल शब्दों में कहें , तो function, set of statements होता है

इसे विस्तार से समझते हैं,

एक Program में एक साथ कई statements को manage करना आसान नहीं होता , इसलिए इन्हें छोटे टुकड़ों या block /module में विभाजित किया जाता है। इन set of statements (जिसमें किसी task को करने के लिए code लिखा जाता है) को program के दूसरे भाग से call किया जाता है। इन module या blocks को ही function कहा जाता है।

Function declaration in C++

C ++ में किसी function को declare करने को function -declaration कहा जाता है। यहाँ C ++ में एक function declaration का syntax दिया गया है-

syntax

return-type function-name(parameter-list);

यहां function -name एक identifier है यानी function का कोई उपयुक्त नाम जबकि parameter-list, data -types को दर्शाता हैं।

C++ Function definition

यह function का main body होता है जिसमें किसी task को करने के लिए code लिखा जाता है, हम किसी भी function की definition को program के दूसरे भाग से कहीं भी call कर सकते हैं। हम अपनी आवश्यकता के अनुसार Program में एक ही function को multiple call भी कर सकते हैं।

यहाँ याद रखें, यदि हम बिना function -definition के किसी function -call करते हैं तो यह program runtime पर linker error देगा।

use of function in C++

  • Program readable हो जाता है। जिसे Program को debug करना आसान हो जाता है।
  • एक ही task के लिए एक से ज्यादा statements लिखने की आवश्यकता नहीं होती अर्थात इन्हें same task perform करने के लिए दोबारा प्रयोग में लाया जा सकता है।जिससे समय की भी बचत होती है।
  • क्योंकि function का उपयोग करने के लिए एक ही task के लिए बार-बार code लिखना नहीं पड़ता है, इसलिए program का size कम हो जाता है जिससे program की speed भी बढ़ जाती है।

Type of function in C++

C ++ में दो प्रकार के function पाए जाते हैं-

  • inbuilt functions
  • user-defined functions

inbuilt Functions in C++

ऐसे functions जो C ++ Library में पहले से ही defined होते हैं, इसलिए इन्हे pre -defined function भी कहा जाता है। आमतौर पर इन्हे Standard Library function कहा जाता है।

हम Program में इन्हे इनकी header file include करके प्रयोग में ला सकते हैं। एक Program में inbuilt function का use Program को आसान बनाता है, जिसका अर्थ है कि हमें किसी भी task के लिए अलग से code write करने की आवश्यकता नहीं पड़ती।

उदाहरण के लिए-

monitor screen को clear करने के लिए clrscr() का use किया जाता है। जिसके लिए अलग से, हमें screen clear करने के लिए code नहीं लिखना पड़ता। हम इस function का उपयोग केवल Program में conio.h (जिसमें इसे defined किया गया है) को include करके करते हैं। अन्य function – setw(), getch(), getche(), swap() आदि का use अलग अलग task किये लिए किया जाता है।

User-Defined Functions in C++

वे functions होते जिन्हे जो programmer किसी task के लिए खुद से कोड करते हैं। इनमे किसी कार्य को करने के लिए उनकी definition में कई statements होते हैं।
C ++ में हम इस प्रकार के function को तीन तरीकों से declare कर सकते हैं जो निम्न हैं-

 no argument and no return type function

ये function void type function भी कहलाते हैं , क्योंकि function declaration में, function -header में bracket के अंदर void declare किया जाता है। जो कोई भी value return नहीं करता।

इसका syntax नीचे दिया गया है –

SYNTEX

void function-name(void);

इसका program नीचे दिया गया है –

#include<iostream.h>
#include<conio.h>

void sum(void); // function declaration

 void main()
  {
    clrscr();
    sum(); //function calling
    getch();
  }

  void sum() // function definition
   {
      int num1,num2,total; // variable declaration

      cout<<"Enter two number: ";
      cin>>num1>>num2;

      total=num1+num2;
      cout<<"Total of these Number: "<<total;
   }

OUTPUT

Enter two number: 5 6
Total of these number: 11

इसमें void sum(void) एक user defined function है।

argument but no return type function

जब हम किसी function को parameter-list के बिना declare करते हैं, ये function void type function भी कहलाते हैं, क्योंकि function declaration में, function -header में bracket के अंदर void declare किया जाता है। जो कोई भी value return नहीं करता।

इसका syntax नीचे दिया गया है –

SYNTEX

void function-name(data-type);

इसका program नीचे दिया गया है जिसमे void sum(int, int) इस प्रकार के function की व्याख्या करता है

इसका उदाहरण नीचे दिया गया है-

#include<iostream.h>
#include<conio.h>

void sum(int,int);          // function declaration

 void main()
  {
    clrscr();
    int num1,num2; // variable declaration

    cout<<"Enter two number: ";
    cin>>num1>>num2;

    sum(num1,num2); // function calling

    getch();
  }

  void sum(int x,int y) // function definition
    {
       int total;
       total=x+y;

       cout<<"Total of these Number: "<<total;
    }

OUTPUT

Enter two number: 7 8
Total of these number: 15

argument and return type function

इस प्रकार की function में, function declaration हम पहले से data type (void data-type को छोड़कर) declare करते हैं, फिर function -name और अंतिम में हम inside bracket में कुछ parameters declare करते हैं। ये value return करते हैं। जो int, char या float के प्रकार का हो सकता है। ये void type function नहीं होते हैं।

इसका उदाहरण नीचे दिया गया है ,जहाँ function int sum () variable x और y की value return कर रहा है।-

SYNTEX

data-type function-name(data-type);

इसका उदाहरण नीचे दिया गया है-

#include<iostream.h>
#include<conio.h>

 int sum(int,int); // protoype declaration

 void main()
  {
     clrscr();
     int num1,num2,total; // variable declaration
     cout<<"Enter two number: ";
     cin>>num1>>num2;

     total=sum(num1,num2); // function calling

     cout<<"Total of these Number: "<<total;
     getch();
  }

  int sum(int x,int y) // function definition
   {
      return x+y;
    }

OUTPUT

Enter two number: 6 8
Total of these number: 14

actual parameter in C++

जो parameters function calling में , function -header (inside bracket)में declare किये जाते हैं उन्हें actual parameter कहा जाता है।

SYNTEX

function-name(parameter-list);

Example

calculate(a,b);

a और b को actual parameter कहा जाता है।

नीचे इसका diagram दिया गया है –

actual-and-formal-parameter-in-cpp

 

formal parameter in C++

जो parameters function definition में , function -header (inside bracket)में declare किये जाते हैं उन्हें formal parameter कहा जाता है।

SYNTEX

function-name(parameter-list)
  {
     Body of function;
  }

Example

calculate (int x , int y)
  { 
     body of function;
  }

यहाँ x और y formal parameter हैं।

इसका उदाहरण नीचे दिया गया है –

#include<iostream.h>
#include<conio.h>

 void calculate(int,int); // function declaration

 void main()
  {
    clrscr();
    int a,b; // variable declaration

    cout<<"Enter two number: ";
    cin>>a>>b;

      calculate(a,b); // function calling (actual parameter)

    getch();
  }
  
  void calculate (int x,int y) // function definition (formal parameter)
   {
      cout<<"\nmultiplication: "<<x*y;
      cout<<"\naddition : "<<x+y;
      cout<<"\nsubstraction : "<<x-y;
   }

OUTPUT

Enter two number: 4 5
multiplication: 20

addition : 9
substraction : -1

Things to know

function एक ऐसा method है जो same task करने के लिए कोड का reuse करने की सुविधा प्रदान करता है, जबकि control statement से उस task के लिए code लिखा जाता है। इसलिए control statement को बारीकी से समझना महत्वपूर्ण है। data structure का concept control statement , array और pointer पर ही आधारित है।

Related exercise

more about function


previous- union in C++

next- recursion in C++

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *